Home / Node / झारखण्ड के लिए आज का दिन ऐतिहासिक: पीएम मोदी

झारखण्ड के लिए आज का दिन ऐतिहासिक: पीएम मोदी

एक दिन के दौरे पर  रांची आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने झारखण्ड में सौगातों की बारिश कर दी। रांची के श्री जगन्नाथ एचईसी मैदान में आयोजित समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना, 462 एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, दुकानदार और स्वरोजगारियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना का शुभारंभ के साथ झारखण्ड विधानसभा भवन, साहिबगंज के मल्टी मॉडल टर्मिनल का उद्घाटन किया। इसके साथ ही झारखण्ड सचिवालय भवन के शिलान्यास समारोह की आधारशिला उन्होंने रखी।

समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन की शुरुआत स्थानीय भाषा में करते हुए कहा कि मोर बट से राउर मन के जमे जमे जोहार। संबोधन के क्रम में उन्होंने कहा कि आज याद फिर ताजा हो गई। सितंबर 2018 में इस मैदान से दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना का शुभारंभ हुआ था। आज फिर से किसानों के बुढ़ापे में उनके लिए सहारा बनने वाली किसान मानधन पेंशन योजना और खुदरा व्यापारियों और स्वरोजगारियों के पेंशन योजना का शुभारंभ बिरसा मुंडा की भूमि से हो रहा है। एक तरह से झारखण्ड के गरीब और आदिवासियों के कल्याण के लिए संचालित की जाने वाली योजनाओं का लॉन्चिंग पैड है। जब-जब विभिन्न योजनाओं की बात निकलेगी तब-तब झारखण्ड का नाम लिया जाएगा। जिस योजना का शुभारंभ झारखण्ड से हुआ, उससे करोडों लोग लाभान्वित हो रहे हैं। आज इस महान धरती से किसानों और व्यापारियों को बधाई देता हूं कि आपके बुढ़ापे के लिए सरकार ने योजना लागू कर आपको लाभ भी पहुंचा दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि संथाल परगना के साहेबगंज में प्रारम्भ हुआ, मल्टी मॉडल प्रोजेक्ट देश और दुनिया में झारखण्ड को नई पहचान देगा। यह पूरा क्षेत्र परिवहन का नया विकल्प दे रहा है। हल्दिया से बनारस तक जलमार्ग का अहम हिस्सा साहिबगंज बन गया है। इसके माध्यम से राज्य के लोगों की विकास की नई संभावनाएं खुलने वाली है। नार्थ ईस्ट और उत्तर भारत तक यहां के व्यापारी, किसान व अन्य अपने उत्पाद और पैदावार पहुंचा सकेंगे। यह रोजगार का सृजन भी करेगा साथ ही प्रकृति पर्यावरण और खर्च में कटौती में लाभकारी भी साबित होगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि नई सरकार का गठन होने के साथ ही देश के 6 करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से जोड़ा गया है। उन तक कृषि कार्य में आर्थिक सहायता पहुंचाने के दृष्टिकोण से 21 हजा करोड़ रुपये दिए गए हैं। इस योजना से राज्य के 8 लाख किसान अब तक लाभ ले चुके हैं। 2 हजार 50 करोड़ रुपये राज्य के किसानों को मिला है। ये रुपये सीधे उनके खाते में भेज दिए गए है। इसमें कोई बिचौलिया नहीं, कोई सिफारिश की जरूरत नहीं है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि झारखण्ड राज्य गठन के दो दशक बाद लोकतंत्र के मंदिर का लोकार्पण हो रहा है। यह सिर्फ इमारत नहीं एक ऐसा पवित्र स्थान है, जहां राज के लोगों कि विकास की नींव रखी जाएगी। झारखण्ड की वर्तमान और आने वाली पीढ़ी के सपने साकार होंगे। युवा विधानसभा भवन को जरूर देखें, जहां उनकी संस्कृति को बड़े जतन से सहेजा गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि झारखण्ड समेत पूरे देश के आदिवासी, जनजाति समुदाय के बच्चों के कौशल व शिक्षा को निखारने के लिए 462 एकलव्य विद्यालय का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ है। इससे जनजातीय समुदाय के बच्चों को बड़ा लाभ होने वाला है। सरकार इन समुदायों के बच्चों के कौशल विकास एवं शिक्षा पर सालाना एक लाख रुपए से अधिक खर्च करेगी। यहां से निकलने वाले बच्चे नए भारत के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगे। झारखण्ड में शुरू हो रहे 69 एकलव्य विद्यालय योजना की कड़ी से जुड़ चुके हैं। अब यहां के बच्चों को भी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और कौशल विकास से आच्छादित किया जाएगा।

नरेंद्र मोदी ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार गरीब जनजातीय समाज के जीवन को आसान बनाने, उनकी चिंता को कम करने का कार्य कर रही है। देश के गरीब बच्चों की सुरक्षा के लिए मिशन इंद्रधनुष लागू किया गया। 30 करोड़ गरीब लोगों का जन-धन योजना के माध्यम से बैंक में खाता खुला। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2 करोड़ से ज्यादा घर बनाए गए हैं। 2 करोड़ और घर निर्माण की प्रक्रिया जारी है। एक समय था, जब शौचालय की पूरे देश में कमी थी, तब वर्तमान सरकार ने 10 करोड़ शौचालय बनाकर गरीबों को सौंपा है। देश की महिलाएं रसोई के धुएं की घुटन से त्रस्त थीं। उनके बीच 8 करोड़ एलपीजी कनेक्शन देकर उनकी सेहत की रक्षा की गई है। इस तरह गरीब की मर्यादा, उसका इलाज, उसकी पेंशन, उसकी पढ़ाई, उसका सम्मान उसकी कमाई हर क्षेत्र में सरकार ने काम किया है। यह ग्रामीणों का एक ओर सशक्तिकरण तो करती ही है साथ ही उनमें आत्मविश्वास का संचार भी करती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि झारखण्ड में बदलाव लाने का प्रयास रघुवर सरकार ने किया है। विकास के जितने भी काम हुए हैं, उनमें आपके मुख्यमंत्री का बड़ा योगदान है। आवागमन की व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए झारखण्ड में 9 हजार करोड़ से अधिक के प्रोजेक्ट की स्वीकृति मिली। भारतमाला योजना के तहत राष्ट्रीय राजमार्ग का विस्तार हो रहा है। रोडवेज, वॉटरवेज, एयरवेज हर क्षेत्र को सुदृढ करने का कार्य केंद्र व राज्य सरकार ने किया। राज्य में डबल इंजन की सरकार कार्य रही है। 5 वर्ष पहले तक जीवन बीमा, स्वास्थ्य बीमा गरीबों के लिए सपने जैसा था। इस स्थिति को हमने बदलने का प्रयास किया। 22 करोड़ से ज्यादा देशवासी आयुष्मान भारत योजना से जुड़ चुके हैं। झारखण्ड के 30 से लाख से ज्यादा लोग इस योजना से जुड़े हैं। साढ़े 3 हजार करोड़ का क्लेम लोगों को मिल चुका है। गंभीर बीमारी होना पहले गरीबों के लिए अभिशाप समान था। लेकिन अब ऐसा नहीं गंभीर बीमारी योजना के तहत 44 लाख गरीब मरीजों को जोड़ा गया, इनमें से 3 लाख लोग झारखण्ड के हैं। अस्पतालों को 7 हजार करोड़ का भुगतान देश के लोगों को स्वस्थता प्रदान करने में किया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता ही सेवा अभियान का शुभारंभ हुआ है। अब कुछ दायित्व आप पर भी है। हमें अपने घरों, अपने मोहल्ले अपने शहर की सफाई तो करनी ही है साथ-साथ सिंगल यूज़ प्लास्टिक को एक जगह जमा कर उससे मुक्त होना है। 2 अक्टूबर को हम महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाएंगे। उस दिन उस ढेर को हटा देना है। रीसायकल कर देना है। प्रकृति प्रेमी झारखण्ड के लोगों से अपील करता हूं कि सिंगल यूज़ प्लास्टिक अभियान का नेतृत्व आप करें। नए भारत नए झारखण्ड के लिए मिलकर काम करना है। और फिर 5 साल के लिए डबल इंजन की सरकार को लाना है।

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने किसान मानधन पेंशन योजना के तहत विमला देवी, अपु उरांव(झारखण्ड), रिंकी देवी(बिहार), रथवा जसमीर सिंह(गुजरात), बिट्टू कुमार(हरियाणा), सत्यनारायण(तमिलनाडु), मंटू देवनाथ(त्रिपुरा) को सांकेतिक तौर पर योजना से लाभान्वित किया। वहीं, खुदरा व्यापारियों व स्वरोजगारियों के पेंशन योजना से आदित्य सिंह(उत्तर प्रदेश), बरिंदर साहू(उड़ीसा), राहुल मेहता(राजस्थान), एस. सवित्रा(तमिलनाडु), तरिसम (जम्मू कश्मीर), रंजुदास(आसाम) एवं पुष्पा मिंज(सब्जी विक्रेता, झारखण्ड) को पेंशन कार्ड सौंपा।

इस अवसर पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, मुख्यमंत्री रघुवर दास, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, केंद्रीय राज्य मंत्री संतोष कुमार गंगवार, मंत्री कैलाश चौधरी, विधानसभा अध्यक्ष डॉ दिनेश उरांव, मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा, रांची के सांसद संजय सेठ, राज्य के किसान, सखी मंडल की महिलाएं व लाखों की संख्या में लोग उपस्थित रहे।