Home / Node / झारखण्ड से गरीबी खत्म करना लक्ष्य: रघुवर दास

झारखण्ड से गरीबी खत्म करना लक्ष्य: रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मंगलवार को कहा कि झारखण्ड से गरीबी समाप्त करना सरकार का लक्ष्य है। लोगों को रोजगार से जोड़कर और उन्हें स्वावलंबी बनाकर हम इस समस्या से मुक्ति पा सकते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए सरकार झारखण्ड को टेक्सटाइल हब के रूप में विकसित कर रही है। रोजगार उपलब्ध होने से झारखण्ड से पलायन रुकेगा और बच्चों को यहीं पर उनके घर में ही नौकरी मिल जाएगी। मुख्यमंत्री ने ये बातें एपिक गारमेंट कंपनी के प्रतिनिधियों से मुलाकात के दौरान कहीं। एपिक ने झारखण्ड में अपना प्लांट लगाने की इच्छा जताई है।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्ड की टेक्सटाइल पॉलिसी पूरे देश में सबसे अच्छी है। यही कारण है कि काफी कम समय में ही बड़ी-बड़ी टेक्सटाइल कंपनियां यहां अपनी मैन्यूफैक्चरिंग इकाई लगाकर उत्पादन शुरू कर चुकी हैं। अरविंद मिल्स, ओरियंट क्राफ्ट जैसी कंपनियों के उत्पादन शुरू हो गए हैं। इसके अलावा और भी कई बड़ी कंपनियों का उत्पादन जल्द ही शुरू होने जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड के लोग सीधे और सरल हैं। मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि कंपनियां संथाल क्षेत्र में उद्योग लगाएं। देवघर में एयरपोर्ट भी बन रहा है। एम्स का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। यह क्षेत्र तेजी से विकास कर रहा है। यहां उद्योग लगाने से लोगों को रोजगार मिलेगा और कंपनी को भी कुशल मानव श्रमिक मिल जाएंगे। यहां कौशल विकास के माध्यम से बच्चों को सरकार विभिन्न ट्रेड में प्रशिक्षण दिलवा रही है।

एपिक ग्रुप के चेयरमैन श्री रंजन महतानी ने बताया कि उनकी कंपनी हांगकांग आधारित मल्टीनेशनल कंपनी है, जो टेक्सटाइल का काम करती है। इसके वियतनाम, बांग्लादेश, जॉर्डन और इथोपिया में निर्माण इकाई है। कंपनी भारत में भी निर्माण इकाई शुरू करना चाहती है। झारखण्ड की टेक्सटाइल पॉलिसी सबसे अच्छी है। झारखण्ड सरकार सहयोग करे तो कंपनी यहां अपनी फैक्ट्री शुरू करेगी। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, कंपनी के कार्यकारी निदेशक श्री केपी प्रदीप उपस्थित थे।