Home / Node / 'समस्त झारखण्डवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं'

'समस्त झारखण्डवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं'

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दुमका के इंडोर स्टेडियम में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में बतौर मुख्यअतिथि हिस्सा लिया। इस मौके पर उन्होंने समस्त झारखण्डवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी। लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आजादी हमें सस्ते में नहीं मिली है। हमें अपनी आजादी के इतिहास को जानना चाहिए। आजादी के आंदोलन का नेतृत्व राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पहले झारखण्ड के वीरों ने भी किया था। झारखण्ड की भूमि एवं भारत माता की कोख से अनेक गरीब आदिवासी पूर्वजों ने आजादी की लड़ाई में अपना खून बहाया है। भगवान बिरसा मुण्डा, सिदो कान्हू, चांद भैरव, तिलका मांझी सहित असंख्य हमारे झारखण्ड के गरीब आदिवासियों ने इस भारत की आजादी में अपना बलिदान दिया है। इस आजादी को हमें बचाकर रखना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस के जवान के कारण राज्य की जनता अमन चैन की जिंदगी जी रहे हैं।

संबोधन के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार का लक्ष्य भ्रष्टाचार मुक्त झारखण्ड बनाना है। बिचौलिया मुक्त झारखण्ड बनाने के संकल्प के साथ हमारी सरकार काम कर रही है। आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने डिजिटल इंडिया का सपना देखा है। मैं यहां के डीसी और प्रशासन को बहुत-बहुत बधाई देता हूं, जिन्होंने ई- लर्निंग के माध्यम से डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने का काम रहे हैं। इस संथाल परगना जैसे क्षेत्र में ई-लर्निंग के माध्यम से हमारे गांव के बच्चों को भी अच्छी और गुणवत्तायुक्त शिक्षा दे रहे हैं। यह कार्य निश्चित रूप से सराहनीय है और प्रशंसनीय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आइये, हम संकल्प लें कि कोई बेरोजगार एवं अशिक्षित ना रहे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि संथाल परगना राज्य का पिछड़ा क्षेत्र हैं। आजादी के बाद आई सरकारों ने इस क्षेत्र के सर्वांगीण विकास पर ध्यान नहीं दिया। हमारी सरकार की प्रतिबद्धता है कि इस संथाल परगना को हमें बदलना है। इस संथाल परगना को बदलने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका शिक्षा की होगी। हमारी सरकार ने पिछले चार वर्षों में 31 हजार स्कूलों में बेंच डेस्क पहुंचाने का काम किया, जबकि आजादी के 67 साल के बाद राज्य के 38 हजार स्कूलों में सिर्फ 7 हजार स्कूलों में बेंच डेस्क की व्यवस्था थी। गरीब बच्चों को भी अच्छी और गुणवत्तायुक्त शिक्षा मिले, इस सोच के साथ हमारी सरकार झारखंड के हर सेक्टर में काम कर रही है। हमने जिला प्रशासन को आदेश दिया है कि 9वीं और 10वीं क्लास के बच्चे, अगर इंजीनियरिंग और मेडिकल परीक्षाओं की तैयारी करना चाहते हैं, तो उन्हें स्पेशल कोचिंग कराई जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं जब भी अधिकारियों के साथ बैठक करता हूं, तब मैं कहता हूं कि अपनी जिंदगी में कोई एक ऐसा काम कर लें, जिससे खुद को शांति मिले। मुझे पूर्ण विश्वास है कि दुमका के उपायुक्त को इस नए मिशन से उन्हें खुद भी शांति मिल रही होगी और समाज को भी फायदा हो रहा है। इसलिए आज इस अवसर पर मैं आप तमाम जनता से अनुरोध करना चाहता हूं। हर काम सरकार नहीं कर सकती, हर देशवासियों का, हर झारखंडवासियों का यह कर्तव्य बनता है कि जिस देश और राज्य के लिए लिए हमारे पूर्वजों ने जान की बाजी लगा दी, उस भारत और अपने राज्य झारखंड के लिए कुछ कर गुजरने की जरूरत है। हर स्तर पर हमें काम करने की जरूरत है। गांव स्तर पर, शहर के स्तर पर अगर हम छोटे-छोटे काम अच्छाई के लिए कर सकें तो यही देश की सच्ची सेवा है। देश सेवा के लिए हर व्यक्ति के अंदर प्रेरणा आनी चाहिए

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें झारखंड की संस्कृति को इन सांस्कृतिक कार्यक्रमों के जरिए बचाना है। हमें झारखंड की परंपरा को भी बचाना है। हमें झारखंड की भाषा को भी बचाना है। इसीलिए वर्षों से जो संथाल समाज की मांग रही है कि ओल चिकी की पढ़ाई हो, तो हमारी सरकार ने 1 से 5 तक उनकी भाषा में बच्चों को पढ़ाई की सुविधा देगी। हमारी सरकार की सोच है कि हमें राज्य से गरीबी को समाप्त करना है। शिक्षा गरीबी को खत्म करने की सबसे बड़ी जड़ी-बूटी है। झारखण्ड में हर गरीब को स्वावलंबी बनाने के दृष्टिकोण से हमारी सरकार काम कर रही है। झारखण्ड के निर्माण में हमारे गांव की बहनों की बहुत बड़ी भूमिका है। इसलिए महिलाओं को आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बनाने के लिए हमारी सरकार ट्रेनिंग देकर सखी मंडल के जरिए उन्हें आर्थिक रूप से सक्षम बनाने की कोशिश कर रही है। चाहे वह बच्चों के स्कूल ड्रेस हो, चाहे अंडे का उत्पादन हो या किसी दूसरे तरह से प्रशिक्षित करके महिलाओं को सशक्त करने की दिशा में हमारी सरकार लगातार प्रयासरत है। इसके अच्छे नतीजे हम लोगों के सामने आते रहते हैं।

इस अवसर पर Conquest 2019 संबंधित यू ट्यूब वीडियो लॉन्च, एम पासपोर्ट सेवा का शुभारंभ, शगुन सूतम द्वारा निर्मित स्कूल यूनिफॉर्म का छात्र-छात्राओं का वितरण किया गया। जय हिन्द अभियान हेतु जिला प्रशासन दुमका एवं एसएसबी के बीच एमओयू हस्ताक्षर किया गया। उन्होंने दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार एवं पुलिस अधीक्षक वाई एस रमेश के साथ जिला प्रशासन की प्रशंसा की।

मुख्यमंत्री द्वारा ने उप विकास आयुक्त वरुण रंजन, प्रशिक्षु आईएएस शशि प्रकाश, असिस्टेन्ट कमान्डेन्ट (एसएसबी,दुमका) नरपत सिंह, पुलिस अवर निरीक्षक फागु होरो, डीसी (एसएसबी) ललित साह, सीटी/जीडी (एसएसबी,दुमका) अरुण कुमार, वरीय शाखा प्रबंधक (इलाहाबाद बैंक, दुमका) नवीन कुमार, पारा लिगल वोलेंटियर मंगला देहरी को उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने शुगम-सुतम में कार्यरत सखी मंडल के सदस्यों को स्कूल यूनिफॉर्म आपूर्ति हेतु आदेश पत्र एवं अग्रिम राशि का चेक प्रदान किया। इस मौके पर समाज कल्याण मंत्री डॉ लुईस मरांडी ने झारखण्डवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी। वहीं, विभिन्न विद्यालयों के बच्चों के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गयी। वहीं, स्वागत संबोधन दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार ने किया। इस अवसर पर प्रमण्डल एवं जिला स्तर के वरीय अधिकारी तथा बड़ी संख्या में स्थानीय लोग उपस्थित रहे।