Home / Node / कलाकारों को हर सम्भव सुविधा मुहैया कराएगी झारखण्ड सरकार

कलाकारों को हर सम्भव सुविधा मुहैया कराएगी झारखण्ड सरकार

झारखण्ड कला संस्कृति एवं पर्यटन विभाग की ओर से ऑड्रे हाउस में पांच दिवसीय इंटरनेशनल वाटर कलर फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है, जिसका उद्घाटन मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने किया। ये इंटरनेशनल वाटर कलर फेस्टिवल में 23 से 27 अगस्त तक आयोजित किया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्ड के कण-कण में कला का वास है, बस उसे निखारने की आवश्यकता है। झारखण्ड प्रकृति की गोद में बसा राज्य है, यहां प्राकृतिक टूरिज्म के साथ-साथ माइनिंग और इको टूरिज्म की भी काफी संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि विश्व भर के चित्रकार यहां की सुंदरता को अपने कैनवस पर उतारकर विश्व पटल पर झारखण्ड की एक अपनी छवि प्रस्तुत कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वर्गीय रामदयाल मुंडा के जन्मदिवस के अवसर पर झारखण्ड कला संस्कृति एवं पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित यह इंटरनेशनल वाटर कलर फेस्टिवल उनके प्रति एक सच्ची श्रद्धांजलि है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चित्रकारिता द्वारा ही एक कलाकार समाज की वेदना को सबके सामने प्रस्तुत करता है। देश विदेश से आये कलाकार अपनी कला के माध्यम से कैनवस पर झारखण्ड के सौंदर्य को उकेरें और देश-दुनिया में लगने वाले इंटरनेशनल पेंटिंग फेस्टिवल में प्रदर्शित करें। इससे हमारे राज्य में छिपी संभावनाओं से लोग अवगत हो सकेंगे। हमें प्रयास करना है कि झारखण्ड देश का सबसे समृद्ध राज्य बने।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्ड सरकार कलाकारों को हर सम्भव सुविधा मुहैया कराएगी। उन्होंने राज्य के युवाओं से अपील की कि इस आयोजन में आकर चित्रकारों से सीखें और अपने कला को और निखारें, जिससे आपका और पूरे राज्य का नाम हो सके। मुख्यमंत्री ने राज्य की जनता से इस आयोजन में ज्यादा से ज्यादा संख्या में भाग लेने की अपील करते हुए कहा कि इससे न केवल कलाकारों का मनोबल बढ़ेगा, बल्कि आने वाले कलाप्रेमियों को भी अंतरराष्ट्रीय कला से रू-ब-रू होने का मौका मिलेगा। इस अवसर पर झारखण्ड कला संस्कृति एवं पर्यटन विभाग के मंत्री श्री अमर कुमार बाउरी ने कहा कि देश का यह प्रथम अवसर है जब अंतरराष्ट्रीय स्तर के चित्रकार एक साथ चित्रकारी करेंगे। चित्रकार झारखण्ड के सभी पर्यटन स्थल पर जाकर वहां की पेंटिंग बनाएंगे और अंतिम दिन उन सभी पेंटिंग्स की प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी।

झारखण्ड कला संस्कृति एवं पर्यटन विभाग के सचिव श्री मनीष रंजन ने कहा कि आज अंतरराष्ट्रीय कलाकारों की उपस्थिति झारखण्ड की भूमिका को वैश्विक कला और संस्कृति के पटल पर एक नये मुकाम पर पहुंचाएगी। उन्होंने कहा कि इस 5-दिवसीय कार्यक्रम में कलाकारों द्वारा विभिन्न विषयों पर पेंटिंग्स प्रदर्शित की जायेगी। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में विश्व के 24 देश, भारत के 25 राज्य और राज्य के 24 जिलों के कलाकार भाग ले रहे हैं, जिनके द्वारा विभिन्न विषयों पर पेंटिंग की जाएगी। फैब्रिआनो से आयी एन्ना मास्सिनिस्सा ने कहा की कला एकमात्र माध्यम है जिसके जरिए लोग अपने सभ्यता और संस्कृति का आदान प्रदान करते हैं। यह किसी सरहद को नहीं मानता, इसकी कोई भाषा नहीं होती। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य “हम सभी एक साथ है, कोई अकेला नहीं” की भावना को लोगों में जागृत करना।

इस अवसर पर यूक्रेन से आई कलाकार विक्टोरिया एवं इटली से आये उत्तम कर्माकर ने लाइव पेंटिंग की और उसे मुख्यमंत्री को भेंट किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. सुनील कुमार वर्णवाल,  लोक कलाकार पद्मश्री मुकुन्द नायक, फेस्टिवल की संस्थापक श्रीमती अन्ना, श्री रजत बंदोपाध्याय, कला एवं पर्यटन से जुड़े विभिन्न देशों, भारत के विभिन्न राज्यों एवं झारखण्ड के विभिन्न जिलों के कलाकार  उपस्थित थे।