Know Your Raghubar Das

रघुवर दास का जन्म 3 मई 1955 को जमशेदपुर में हुआ था, उनके पिता का नाम चमन राम है। बचपन का जीवन संघर्षपूर्ण रहा और बहुत अभावों के वजह से उन्होने जमशेदपुर की टाटा स्टील रोलिंग मिल में मजदूर के रूप में अपना सफर शुरु किया। प्रारम्भिक शिक्षा भालूबासा हरिजन विद्यालय में हुई और यहीं से मैट्रिक की परीक्षा पास की। इसके बाद जमशेदपुर को-ऑपरेटिव कॉलेज से बीएससी और विधि स्नातक की परीक्षा पास की। अपने कॉलेज के दिनों से ही सामाजिक कार्य की भावना के वजह से धीरे धीरे गरीब मजदूरो का चेहरा बनने लगे और ऐसे ही राजनीती की शुरुवात हुई

निचले तबके के लोगों के पसंदीदा नेता आज झारखण्ड के दसवें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने एक साधारण कार्यकर्ता से पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और अब मुख्यमंत्री तक का सफर तय किया है. वे राज्य के पहले गैर आदिवासी मुख्यमंत्री बने. भालुबासा निवासी स्वर्गीय चमन राम के पुत्र रघुवर दास का जन्म 3 मई 1955 को हुआ था. उन्होंने भालुबासा हरिजन विद्यालय से मैट्रिक पास की. वहीं को-ऑपरेटिव कॉलेज से बीएससी और विधि की परीक्षा पास की. स्नातक के बाद उन्होंने टाटा स्टील में मजदूर के तौर पर काम शुरू किया.

छात्र जीवन से ही सक्रिय राजनीति को इन्होंने सेवा का माध्यम बनाया. छात्र संघर्ष समिति के संयोजक की भूमिका निभाते हुए जमशेदपुर में विश्वविद्यालय की स्थापना के आंदोलन में भाग लिया. लोकनायक जयप्रकाश के संपूर्ण क्रांति आंदोलन में उन्होंने जमशेदपुर का नेतृत्व किया. इस दौरान जेल गये. वहां उनकी मुलाकात प्रदेश के कई शीर्ष नेताओं से हुई. एक मजदूर से लेकर झारखंड के मंत्री तक का सफर तय किया है. वे दो बार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बने और फिलहाल पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं. 1976-77 में जनता पार्टी की राजनीति में सक्रिय रहे. 1980 में भाजपा के स्थापना से राजनीति से जुड़े. मुंबई में हुए भाजपा के प्रथम अधिवेशन (1980) में भाग लिया.

Read More
View All

My View

Social Buzz